LALJEE PASWAN

मैं और तुम

           मैं और तुम

  तान्हएयों में महकती इक रात हो तुम
  हर तरफ बिखरी हैं खामोशी
  उनमें  घुलती आवाज हो तुम
  टूटे अरमानों को सजाती
  तारो की बारात हो तुम
  मुझमें होने वाले रौंशन
   खुदा का करिश्मा-ए-नूर हो तूम!

                         वक्त के टूटे पंखो संग
                       लम्हों की परवाज हो तुम
                       दिल के सुने सज पर
                       हौले से उभरता राग हो तुम
                       रूठे-रूठे तकदीर में बसती
                      खवाहिश की बरसात हो तुम
                         मेरी बात  छुपाए गुमसुम
                          एक चुप-चुप सी किताब हो तुम!

  अनजानी इन राहों में,
  मेरे हमसफ़र , हमराज हो तुम
   मन के वीरानों में उतारती,
   मखमली सहर -ए-आगाज हो तुम
   धडकनों में सिमटती जाती
   अनकहे जज्बात हो तुम
    मुझसे कुछ दूर सही पर
     मुझमे ही आबाद हो तुम
     मुझमे ही आबाद हो तुम!

Comments1

  • SANTOSH

    Fantabulous..........It touch me......



To be able to comment and rate this poem, you must be registered. Register here or if you are already registered, login here.